Uncategorized

Rakhi : 30 या 31 कब मनाना उचित होगा रक्षाबंधन? ज्योतिषाचार्य दूर करेंगे आपका कन्फ्यूजन, नोट कर लें शुभ मुहूर्त

Rakhi : 30 या 31 कब मनाना उचित होगा रक्षाबंधन? ज्योतिषाचार्य दूर करेंगे आपका कन्फ्यूजन, नोट कर लें शुभ मुहूर्त

Rakhi : 30 या 31 कब मनाना उचित होगा रक्षाबंधन? ज्योतिषाचार्य दूर करेंगे आपका कन्फ्यूजन, नोट कर लें शुभ मुहूर्त

raksha bandhan ki date : भद्रा काल में राखी बांधना अशुभ माना जाता है, इस साल रक्षाबंधन के त्यौहार पर भद्रा का साया है, जिस समय से श्रावण पूर्णिमा तिथि शुरू हो रही है. उस समय से ही भद्रा भी लग रही है।

इस साल रक्षाबंधन के लिए श्रावण पूर्णिमा तिथि 30 अगस्त को सुबह 10:13 बजे से लेकर 31 अगस्त को सुबह 07:46 बजे तक है, लेकिन 30 अगस्त को सुबह 10 बजकर 13 मिनट से भद्रा भी लग रही है, ऐसे में रक्षाबंधन पर राखी बांधने का शुभ मुहूर्त का अभाव रहेगा। 31 अगस्त राखी वाले दिन भद्रा सुबह 10 बजकर 13 मिनट से शुरू हो रही है, जो रात्रि 08.57 तक रहेगी।

श्री रुद्र बाला जी धाम के पुजारी पंडित कान्हाकृष्ण शुक्ल ने बताया कि हर साल रक्षाबंधन का त्यौहार श्रावण पूर्णिमा के दिन मनाते है, इसमें भी यह देखा जाता है कि उस दिन भद्रा न हो, यदि रक्षाबंधन के दिन भद्रा का साया है तो उस समय में बहनें भाई को राखी नहीं बांधती हैं। भद्रा काल में राखी बांधना अशुभ माना जाता है, इस साल रक्षाबंधन के त्यौहार पर भद्रा का साया है, जिस समय से श्रावण पूर्णिमा तिथि शुरू हो रही है. उस समय से ही भद्रा भी लग रही है। ऐसे में रक्षाबंधन का पावन पर्व 31 अगस्त को उदया तिथि में सुकर्मा योग के सानिध्य में मनाया जायेगा। जिस प्रकार से भद्रा के कारण पिछले साल 2022 में दो दिन रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया गया था, उसी तरह इस साल भी दो दिन 30 अगस्त और 31 अगस्त को रक्षाबंधन मनाया जायेगा।

31 अगस्त को राखी बांधने का शुभ मुहूर्त

  • जो लोग 31 अगस्त को रक्षाबंधन मनाना चाहते हैं, उनके लिए सुबह में 07:46 बजे तक ही मुहूर्त है। सर्वोत्तम मुहूर्त सूर्योदय से सुबह 05:43 बजे से 07:25 बजे तक है।

सुकर्मा योग बढ़ाएगा सुख-सुविधा, धन-ऐश्वर्य

  • पंडित कान्हाकृष्ण शुक्ल ने बताया कि सुकर्मा योग में किया गया कार्य सफल होता है। साथ ही इस योग में नए कार्य शुरू करने पर उसमें किसी भी परेशानियों का भी सामना नहीं करना पड़ता है, मांगलिक कार्यों के लिए यह योग बहुत ही अच्छा माना जाता है। इस राजयोग के बनने पर हर काम में सफलता हासिल होती है। ये योग बनने पर शारीरिक, तर्क, पराक्रम और साहस की बढ़ोत्तरी होती है।

आने वाले 21 दिन इन राशियों के लिए बेहद शुभ, सूर्य की तरह चमकेगा भाग्य

कैसे सजाएं राखी की थाली

  • राखी की थाली में रेशमी वस्त्र, केसर, चावल, चंदन और कलावा रखकर भगवान की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद राखी भगवान शिव की प्रतिमा को अर्पित करें। अब भगवान शिव को अर्पित किया गया धागा या राखी भाइयों की कलाई में बांधे।
  • राशि के अनुसार राखी बांधें
  1. मेष राशि का स्वामी मंगल ग्रह को माना जाता है। इस राशि का पूर्व दिशा पर स्वामित्व है, यदि बहनें रक्षा बंधन पर इस राशि वाले भाई को लाल, नारंगी या सुनहरे रंग की राखी बांधें तो शुभ होगा।
  2. वृषभ राशि वालों को बहनें रक्षाबंधन पर सिल्वर रंग की या चांदी की राखी बांधे तो शुभमाना जाता है। नीले और बादामी रंग की राखी भी बांधी जा सकती है।
  3. मिथुन राशि वाले भाई के लिए हरा रंग शुभ है। हरे रंग के हर शेड्स शुभ और अनुकूल होंगे।
  4. कर्क राशि के भाई के लिए चमकीले और हल्के बादामी रंग या मोती की राखी शुभ होगी।

15 सितंबर तक इन 4 राशियों पर बरसेगी बुध देव की असीम कृपा, देखें क्या आप भी हैं इस लिस्ट में शामिल

  1. सिंह राशि वालों के लिए नारंगी सुनहरी, पीली रंग की राशि शुभ फल प्रदान करेगी।
  2. कन्या राशि वालों के लएि नीले मिश्रि‍त हरे रंग या रामा ग्रीन कलर की राखी बांधी जानी चाहिए।
  3. तुला यह राशि वैभवशाली होती है। इन्हें डायमंड, जरदोजी या सजीधजी खूबसूरत मल्टी कलर की राखी बांधी जा सकती है।
  4. वृश्चिक राशि वालों के लिए मेजेंटा,गुलाबी, संतरी रंग की राशि शुभ रहेगी।
  5. धनु राशि वालों के चटख सरसों पीले रंग और हल्दी कलर की राखी शुभ रहेगी।
  6. मकर राशि के भाई को परपल, गहरे गुलाबी या गहरे नीले रंग की राखी बांधें।
  7. कुंभ राशि के भाई के लिए आसमानी और नीले रंग के सारे शेड्स अच्छे रहेंगे।
  8. मीन राशि के भाई के लिए केशरिया, पीले और लाल रंग की राखी बांधना शुभ माना जाता है।

जरूरी बात

भाई का तिलक करें और तिलक पर चावल लगाएं। तिलक लगाने के बाद भाई को राखी बांधते समय…ॐ येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबल:। तेन त्वामपि बध्नामि रक्षे मा चल मा चल।। मंत्र का पाठ करते रहें। इसके बाद अपने भाई की कलाई पर राखी (रक्षासूत्र) बांधे।

 

Leave a Comment